Alone Shayari in Hindi

Alone Shayari in Hindi


1) हर कोई समज न सका ऐसा बदनसीब हूँ मैं

जिंदगी के हर मोड पर अपनों को खोया हूँ मैं

कभी हसा तो कभी बहोत रोया,क्यों ?

कोई भी मुझे समझ न पाया

वो दुःख,वो दर्द आज भी मेहसूस करता हूँ

जिसे आपनोनें दिया उसे कभी भुला नही सकता हूँ …

 

Har koi samaj n saka aisa badnaseeb insan hoon main

Jindagi ke har mod par apno ko khoya hoon main

Kabhi hasa tho kabhi bhot roya,Kyon?

Koi bhi muje samaj n paya

Wo dukh,wo dard aaj bhi mehsus karta hoon

Jise apno ne diya use kabhi bhula nahi sakta hoon…


2) नही मतलबी नही हूँ मैं

हर छोटीसी बातपे अपनों के लिये रोया हूँ मैं

कभी हमसे कोई न रुठे बस इसी बात का डर लगा रहता है

अपनों कि ख़ुशी के खातिर ये दिल है कि हररोज मरता रहता है…

 

Nahi matlabi nahi hoon main

Har chotisi batpe apno ke liye roya hoon main

Kabhi humse koi n ruthe isi bat ka dar laga rehta hai

Apno ki khushi ke khatir ye dil hai ki roj marta rehta hai…


3) अपनोंसे हि हूँ हारा

किस्मत का भी हूँ मारा ,

हर कोई जिंदगी मी आके चल दिया

जाते जाते बहोत कूच सिखा गया…

 

Apno se hi hoon hara

Kismat ka bhi hoon mara,

Har koi jindagi me aake chal diya

Jate jate bahot kuch sikha gaya…


4) तेरे ना होने से जिंदगी जी रहे है जी लेंगे,

बाकी जिंदगी यूं हि गुजारनी है गुजार लेंगे…

 

Tere na hone se jindagi ji rahe hai ji lenge,

Baki jindagi yun hi gujarni hai gujar lenge…


5) जाना पडा उन्हें आखिर बुलावा जो आया था,

किस्मत का लिखा खुदा ने भी तो माना था…

 

Jana pada unhe aakhir bulava jo aya tha,

Kismat ka likha khuda ne bhi tho mana tha…


6) इश्क भी बडा जालिम है जनाब

कैसे कैसे सपने दिखाता है,

बात आती है जिंदगीभर साथ निभाने कि

तो हर कोई दुरियां बडाने लगता है…

 

Ishq bhi bada jhalim hai janab

Kaise kaise sapne dikhata hai,

Baat aati hai jindagibhar sath nibhane ki

Tho har koi duriyan badane lagta hai…


7) बीते हुए जिंदगीके बारे मे सोचता हूँ

तो खुदको सबसे अलग पाता हूँ,

वो बचपन कि शरारते और जवानी के किस्से

उसे याद करके हि अपनी जिंदगी गुजारता हूँ ,

लौटके आता हूँ आज में तो खुदको अकेला पाता हूँ…

 

Bite hue jindagike bare me sochta hoon

Tho khudko sabse alag pata hoon,

Wo bachpan ke kisse aur jawani ke kisse

Use yaad krke hi apni jindagi gujarta hoon,

Lautke aata hoon aaj me tho khudko akela pata hoon…


8) इस तरह खोये है तन्हाई में,कि

रोते रहते है रातभर तेरी यादों में,

बस एक बार लौट के आजा मेरी जान

कुछ और हि पाया हि नही तुम्हारी मोहब्बत में..!

 

Iss tarah khoye hai tanhai me,ki

Rote rehte hai ratbhar teri yaadon me,

Bas ek baar laut ke aaja meri jaan

Kuch aur hi paya nahi tumhari mohabat me..!


Leave a Comment