Best Gulzar Shayari on Love

Best Gulzar Shayari on Love


क्या तुम्हे याद है….

क्या तुम्हे याद है,
वो अपनी पहली मुलाकात
मेरी वो बात..

क्या तुम्हे याद है,
मेरे साथ पहली बार तेरा हसना
मुझे पहली बार तेरा रुलाना..

क्या तुम्हे याद है,
मेरे साथ गुजारा हुआ वक्त
वो हर एक लम्हे अपने..

क्या तुम्हे याद है,
छोटी-छोटी बातों पे हमारा लडना
और हर बार की तरह मेरा तुझे मनाना..

क्या तुम्हे याद है,
मेरा तुझ पर गुस्सा हो जाना
फिर तुझे देखने के बाद सब भुल जाना..

क्या तुम्हे याद है,
हमारा वो छुप-छुप के मिलना
और तेरा,भाई के डरसे भाग जाना..

क्या तुम्हे याद है,
कॉलेज में तेरा मुड-मुड के देखना
और शर्माके छुपकेसे हसना..

क्या तुम्हे याद है,
तुने मेरा हाथ अपने हाथोंमे लेकर कहा था
मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ..

क्या तुम्हे याद है,
साथ मिलकर हमने तय किया था की
जिंदगीभर एक दुसरेका दर्द,गम बाँटलेंगे..

क्या तुम्हे याद है,
तुने अपने बापके दिये हुये वचन के
खातिर मुझे छोडा..

तुम्हे याद है सबकुछ ,
मगर नही रहा हमारे बिच अब कुछ..
सिर्फ तेरी यांदोके सहारे जिंदगी गुजर रही है,

तु हो ना हो क्या फर्क पडता है
अब तेरी मुझे जरुरत भी नही है..

झूठे थे तेरे वादे, मेरे साथ गुजारे हुये हर लम्हे,तेरी कसमें,
अरे तुने तो अपना वक्त गुजारने के खातिर चुना था हमें..

– गोरनाळ गणेश (350)

Best Gulzar Shayari on Love

Kya Tumhe Yaad Hai…

Kya tumhe yaad hai,
Wo apni pehli mulakat
Meri wo baat..

Kya tumhe yaad hai,
Mere saath pehli baar tera hasna
Mujhe pehli baar tera rulana..

Kya tumhe yaad hai,
Mere saath gujara hua waqt
Wo har ek lamhe apne..

Kya tumhe yaad hai,
Choti-choti baaton pe hamara ladna
Aur har bar ki tarah mera tujhe manana..

Kya tumhe yaad hai,
Mera tujh par gussa ho jana
Phir tujhe dekhne ke bad sab bhul jana…

Kya tumhe yaad hai,
Hamara wo chup-chup ke milna
Aur tera bhai ke darse bhag jana..

Kya tumhe yaad hai,
College me tera mood mood ke dekhna
Aur sharmake chupkese hasna

Kya tumhe yaad hai,
Tune mera hath apne hatho me lekar kaha tha
Main sirf tumhari hoon..

Kya tumhe yaad hai,
Saath milkar humne tay kiya tha ki
Jindagibhar ek dusre ka dard,gum bant lenge..

Kya tumhe yaad hai,
Tune apne baap ke diye hue
Vachan ke khatir mujhe choda tha..

Tumhe yaad hai sab kuch,
Magar nahi raha hamare bich ab kuch..

Sirf teri yaadon ke sahare jindagi gujar rahi haii
Tu ho na ho kya farak padta hai
Ab teri mujhe jarurat bhi nahi hai..

 

Jhute the tere waade,Mere saath gujare hue har lamhe,Teri Wo kasmein..
Are tune tho apna waqt gujarne ke khatir chuna tha hume…

– Gornal Ganesh (350)

 

Leave a Comment