Bewafa Shayari in Hindi

Bewafa Shayari in Hindi


1) आँखोंसे बहते हुये आसुँ कहते है,
आप हमेशा हमे क्यों याद करते है..
हमनेभी कुछ यूँ जवाब दिया,की
वो सूनकर आँसू भी पानी की तरह बहने लगते है!
जवाब कुछ यूँ था,की
जिंदगी में कुछ ऐसी गलती कर बैठे,
प्यार शब्द से नफरत थी साला वही कर बैठे..
सुबह होती ती उसकी मिठी यांदो से,
और रात गुजरती थी उसके सुनहरे सपनोंसे..
अब तो उसकी आदतसी होने लगी थी,
लेकीन आया एक दिन जिंदगी में ऐसा की,
पता चला वो तो हमे अकेला छोडकर
किसी और के साथ चली गयी थी…!!

 

Aankhon se behte hue aasun kehte hai
Aap hamesha hame kyon yaad karte hai?
Humne bhi kuch yun jawab diya ki,
Wo sunkar aasun bhi pani ki tarah
behne lagte hai..
Jawab kuch yun tha ki,
Jindagi me kuch aisi galti kar baithe
Pyae shabd se nafrat thi sala wahi kar baithe
Subah hoti thi uski miti yadon se
Aur Raat gujrati thi uske sunhare sapno se
Aab tho uski aadat si hone lagi thi
Lekin aaya ek din jindagi me aisa ki,
Pata chala wo tho hame chodkar
Kisi aur ke saath chali gayi thi..!


2) जान बसती है तुझमें मेरी,
बेपनाह इश्क करते है तुझसे!
कितनी आसानी से आपने कह दिया,
हमें प्यार नही तुमसे..!!

 

Jaan basti hai tujme meri
Bepanah ishq karte hai tujse
Kitni aasani se aapne keh diya
Hume pyaar nahi tumse..!


3) बस कुछ पलके बातोंको
हमने प्यार का नाम दे दिया,
उसने सबकुछ समझ के भी
नासमझ होने का नाटक किया,
जब प्यार ही नही करती तो
ऐसे सपने क्यों दिखाया,
हर घडी हमें इतना क्यों सताया,
तेरे प्यार में मैने खुद को जलाया,
तुझे पानेके लिए क्यों इतना रुलाया,
छोडके जाना ही था तो क्यों तू मेरी जिंदगीमें आया…

 

Bas kuch palke baaton ko
Humne pyaar ka naam de diya
Usne sab kuch samaj ke bhi
Nasamaj hone ka natak kiya,
Jab pyaar hi nahi krti tho
Aise sapne kyon dikhaya
Har gadi hame itna kyon sataya
Tere pyaar me maine khud ko jalaya
Tuje paane ke liye kyon itna rulaya
Chodke jana hi tha tho kyon tu meri
Jindagi me aaya..!


4) बात करने का
नजरिया बदल गया,
वक्त काटने का तरिका बदल गया..
होने लगे वो हमसे खफा..
क्या परेशानी थी हमसे
जो निकले वो बेवफा !!

 

Baat karne ka
Najriya badal gaya,
Waqt katne ka tarika badal gaya
Hone lage wo humse khafa
Kya pareshani thi humse
Jo nikale wo bewafa..!


5) मेरे जीतेजी या बाद मरने के

आप कभी हमे नही समझ सके,

 बात तो सिर्फ तक्लीफ कि थी

तुने तो छोड दिया हमे जिंदगीभर रुलाके…

 

Mere jiteji ya bad marne ke

Aap kabhi hame samaj sake,

Baat tho sirf takleef ki thi

Tune tho chod diya hame jindagibhar rulake


6) मैं आज भी रातोंमे उसकी तस्वीर
का दीदार करके सोता हूँ
जब याद वो आती है तो कंबल
ओढ के गुट-गुट कर रोता हूँ
हमने प्यार पानेके लिए रिश्ते निभाये
और उन्होंने किसी और को पाने के लिए…

 

Main aaj bhi raaton me uski tasveer
Ka deedar karke sota hoon,
Jab yaad wo aati hai tho kambal
Odh ke gut-gut kar rota hoon,
Humne pyaar pane ke liye rishte nibhaye
Aur unhone kisi aur ko pane ke liye..!


 

Leave a Comment